Homeअंतरराष्ट्रीय28 टन आलू के बीच मिला इतना बड़ा हैंड ग्रेनेड, दूसरे विश्व...

28 टन आलू के बीच मिला इतना बड़ा हैंड ग्रेनेड, दूसरे विश्व युद्ध में होता था इस्तेमाल


वेलिंग्टन. न्यूजीलैंड की एक चिप्स बनाने वाली फैक्ट्री में 28 टन आलू के बीच एक बड़ा हैंड ग्रैनेड मिला है. इंडिपेंडेंट के मुताबिक, आलू के ढेर में मिला हैंड ग्रैनेड वर्ल्ड वॉर 2 के दौर का है. ऑकलैंड की मिस्टर चिप्स फैक्ट्री में हैंड ग्रैनेड मिलने के बाद बॉम स्क्वाड को बुलाया गया. रिपोर्ट के मुताबिक यह एक ट्रेनिंग ग्रेनेड है, जिसमें किसी तरह का कोई एक्सप्लोसिव नहीं मिला.

रिपोर्ट के मुताबिक, रिचर्ड तेउरुकुरा हमेशा की तरह अपनी ड्यूटी कर रहे थे. आलू की खेप में कंकड़-पत्थर निकालना उनका रोज का काम है. इसी दौरान कन्वेयर बेल्ट पर उन्हें लाखों आलू के बीच एक संदिग्ध सी दिखने वाली चीज मिली. पहले तो रिचर्ड ने इसे बड़ा सा पत्थर ही समझा. इसके बाद उन्होंने इस पर लगी मिट्टी को साफ करना शुरू कर दिया. मिट्टी के साफ होते ही उन्हें कुछ शक हुआ, जिसके बाद उन्होंने जांच के लिए इसे अपने इंजीनियर सहयोगी को दे दिया.

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान इसका काफी इस्तेमाल होता था. इस तरह के बम को ‘मिल्स बम’ नाम दिया गया था.

जांच के बाद पता चला की ये आलू जैसी दिखने वाली वस्तु एक हैंड ग्रेनेड है. सूचना मिलते ही फैक्ट्री का इलाका सील कर दिया गया. ग्रेनेड को एक कंक्रीट पार्किंग के पास रख दिया गया, जहां लोगों की जान को कोई खतरा नहीं था. इसके बाद पुलिस को जानकारी दी गई. पुलिस ने न्यूजीलैंड रक्षा बल के एक्सप्लोसिव ऑर्डिनेंस डिस्पोजल टीम को सतर्क किया.

80 साल पहले बनाया गया था यह ग्रेनेड
एक्स-रे मशीन में इसकी जांच की गई. इससे पता चला की ग्रेनेड प्रशिक्षण के उद्देश्य के लिए बनाया गया था. इसके फटने से कोई नुकसान नहीं होता. इसे लगभग 80 साल पहले ब्रिटिशर्स ने बनाया था. द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान इसका काफी इस्तेमाल होता था. इस तरह के बम को ‘मिल्स बम’ नाम दिया गया था.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!