Homeछत्तीसगढनक्सलियों ने की पति की हत्या, पुलिस ने मांगे सबूत तो 250...

नक्सलियों ने की पति की हत्या, पुलिस ने मांगे सबूत तो 250 किमी दूर से जली हड्डियां लेकर पहुंची पत्नी


रायपुर/बीजापुर. छत्तीसगढ़ के घोर नक्सल प्रभावित बीजापुर जिले में एक महिला पति की जली हड्डियां लेकर पुलिस के पास पहुंची. जली हड्डियों को जब्त कर पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर लिया है और मामले में जांच शुरू कर दी है. हालांकि जुर्म दर्ज कराने के लिए लिए महिला व उसके परिवार वालों को पुलिस के चक्कर लगाने पड़े. थाना दर थाना घूमना पड़ा. परिवार वालों आरोप है कि वे नक्सल हिंसा का शिकार हुए. उसके बाद न्याय के लिए अब चक्कर लगाते रहे.

घोर नक्सल प्रभावित इलाके भट्टीगुड़ा की रहने वाली ज्योति मड़कम अपने परिवार के कुछ सदस्यों के साथ बीते शनिवार को बीजापुर जिला मुख्यालय पहुंची. उनके हाथ में तौलये में लिपटी कुछ जली हड्डियां थीं. ज्योति का दावा था कि ये जली हड्डियां उनके पति मड़कम आयता की हैं. नक्सलियों ने उने पति की बेरहमी से हत्या कर दी है. हत्या का जुर्म दर्ज कराने जब उनका परिवार पामेड़ पुलिस थाने पहुंचा तो उनसे आयता की मौत होने के सबूत मांगे गए. उनसे कहा गया कि सबूत के तौर पर हड्डियां ही लेते आइये.

250 किलोमीटर का सफर तय किया
ज्योति के साथ ही मृतक का भतीजे, बड़ा बेटा व दुधमुहा बच्चा भी साथ था. मृतक के भतीजे ने बताया कि घटना 27 मार्च 2022 की है. 25 मार्च को नक्सलियों ने भट्टीगुड़ा से मड़कम आयता व उनके एक दोस्त पांडू का अपहरण कर ले गए और 2 दिन बाद उनकी हत्या कर दी. इसके बाद उनके परिवार को भी गांव से भगा दिया. परिवार वाले काफी डर गए थे. इसलिए तत्काल पुलिस के पास नहीं पहुंचे. हालांकि काफी हिम्मत कर बीते सप्ताह में तेलंगाना व बीजापुर सीमावर्ती पुलिस थाने पामेड़ पहुंचे. वहां पुलिस ने मृतक की हत्या से जुड़े सबूत मांगे, कहा कि कुछ नहीं तो उसकी जली हड्डियां ही ले आओ. किसी तरह वे गांव से जली हड्डियां लेकर तीन बाद पामेड़ थाना पहुंचे.

पामेड़ थाने में उनसे कहा गया कि घटना स्थल तर्रेम थाना क्षेत्र में आता है. इसलिए वे वहां जाकर जुर्म दर्ज कराएं. इसके बाद वे तेलंगाना के चेरला के रास्ते से होते हुए वे करीब 250 किलोमीटर दूर बीजापुर जिला मुख्यालय पहुंचे. वहां पुलिस वालों की मदद से करीब 60 किलोमीटर दूरे उन्हें तर्रेम थाने ले जाया गया, जहां हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया.

2 शादी करने और ट्रैक्टर खरीदने से नाराज
परिवार की ओर से की गई शिकातय के मुताबिक मृतक आयाता ने 2 शादियां की हैं. पहली पत्नी गंगी मड़कम से उसके दो बच्चे हैं. साल 2005 में उसने ज्योति मड़कम से दूसरी शादी कर ली. दूसरी शादी का तब नक्सलियों ने खूब विरोध किया, लेकिन वे नहीं माने और गांव में रहने लायक परिस्थिति नहीं बनी तो तेलंगाना के भद्राचलम जिले के राजूनगरम में जाकर बस गए. इस दौरान वे गांव आते-जाते रहते थे. एक साल पहले मृतक आयता ने ट्रैक्टर खरीदा था. नक्सलियों को शक था कि आयता पुलिस से मिला है और उसे वहीं से पैसे मिल रहे हैं. इस बार 25 मार्च को जब वो फिर गांव आया तो उसका अपहरण कर हत्या कर दी.

बीजापुर के एसपी अंजनेय वार्ष्णेय ने बताया कि वैज्ञानिक परीक्षण के लिए सैंपल मंगाए गए थे. महिला व परिवार वालों को थाने का चक्कर लगवाने जैसी कोई बात नहीं है. घटना स्थल संवेदनशील इलाका है. इसलिए संबंधित थाने में ही रिपोर्ट दर्ज करवाने के लिए उन्हें बुलाया गया था. पुलिस की मदद से सुरक्षित तरीके से उन्हें थाने ले जाया गया और वापस भी छोड़ा गया. हत्या के मामले में जुर्म दर्ज कर विवेचना की जा रही है.

Tags: Chhattisgarh news, Naxal violence

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments