HomeBREAKING NEWSवन धन विकास योजना में दन्तेवाड़ा लिख रहा है -इतिहास

वन धन विकास योजना में दन्तेवाड़ा लिख रहा है -इतिहास

दंतेवाड़ा । जिले वन जैव विविधता के दृष्टिकोण से काफी समृद्ध है। इमली, महुआ फूल, तेंदूपत्ता के अतिरिक्त उच्च गुणवत्ता के कई अन्य लघु वनोपज भी पाये जाते हैं। यहाँ के निवासियों के जीविकोपार्जन का मुख्य साधन कृषि एवं वनों पर निर्भर हैं। लघु वनोपज के संग्रहण, प्रसंस्करण एवं मूल्यवर्धन हेतु शासन द्वारा वर्ष 2019-20 से ‘‘वनधन विकास योजना’’ संचालित है, जिसका मुख्य उद्देश्य क्षेत्र के महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा संग्राहकों से लघु वनोपज का संग्रहण, प्राथमिक प्रसंस्करण एवं मूल्यवर्धन कार्यों का सम्पादन कर रोजगार प्राप्त करना है। वन धन विकास योजना से क्षेत्र के सैकड़ों जनजातीय लोगों को रोजगार मिल रहा है। वोकल फॉर लोकल तथा आत्मनिर्भर भारत अभियान को बढ़ावा देने वाले इस योजना से जनजातीय लोगों की आय और आजीविका में सुधार हो रहा है और समूह की महिलाओं के जीवन में बदलाव देखने को मिल रहा है।

 

जिला यूनियन अंतर्गत लघु वनोपज संग्रहण हेतु 14 संग्रहण केन्द्र (हाट बाजार) एवं 07 वन धन विकास केन्द्र (लघु वनोपज प्रसंस्करण केन्द्र) के लिए प्रत्येक संग्रहण केन्द्र हेतु  5.00 लाख रुपये एवं प्रत्येक वन धन केन्द्र हेतु 19.06 लाख रुपये राशि स्वीकृत कर जिला कलेक्टर एवं डी.आर.एम. द्वारा वर्कशेड/गोदाम का निर्माण कराया गया है।

दंतेवाड़ा । जिले वन जैव विविधता के दृष्टिकोण से काफी समृद्ध है। इमली, महुआ फूल, तेंदूपत्ता के अतिरिक्त उच्च गुणवत्ता के कई अन्य लघु वनोपज भी पाये जाते हैं। यहाँ के निवासियों के जीविकोपार्जन का मुख्य साधन कृषि एवं वनों पर निर्भर हैं। लघु वनोपज के संग्रहण, प्रसंस्करण एवं मूल्यवर्धन हेतु शासन द्वारा वर्ष 2019-20 से ‘‘वनधन विकास योजना’’ संचालित है, जिसका मुख्य उद्देश्य क्षेत्र के महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा संग्राहकों से लघु वनोपज का संग्रहण, प्राथमिक प्रसंस्करण एवं मूल्यवर्धन कार्यों का सम्पादन कर रोजगार प्राप्त करना है। वन धन विकास योजना से क्षेत्र के सैकड़ों जनजातीय लोगों को रोजगार मिल रहा है। वोकल फॉर लोकल तथा आत्मनिर्भर भारत अभियान को बढ़ावा देने वाले इस योजना से जनजातीय लोगों की आय और आजीविका में सुधार हो रहा है और समूह की महिलाओं के जीवन में बदलाव देखने को मिल रहा है।

क्षेत्र के  जिला यूनियन अंतर्गत लघु वनोपज संग्रहण हेतु 14 संग्रहण केन्द्र (हाट बाजार) एवं 07 वन धन विकास केन्द्र (लघु वनोपज प्रसंस्करण केन्द्र) के लिए प्रत्येक संग्रहण केन्द्र हेतु  5.00 लाख रुपये एवं प्रत्येक वन धन केन्द्र हेतु 19.06 लाख रुपये राशि स्वीकृत कर जिला कलेक्टर एवं डी.आर.एम. द्वारा वर्कशेड/गोदाम का निर्माण कराया गया है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments