Homeअंतरराष्ट्रीयरूस अगले हफ्ते करेगा इंटरकॉन्टिनेंटल मिसाइल टेस्ट, इस क्षेत्र में अलर्ट जारी

रूस अगले हफ्ते करेगा इंटरकॉन्टिनेंटल मिसाइल टेस्ट, इस क्षेत्र में अलर्ट जारी


मॉस्को. यूक्रेन के साथ जंग के बीच रूस अपने मिसाइलों की टेस्टिंग भी कर रहा है. रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अगले हफ्ते एक इंटरकॉन्टिनेंटल मिसाइल लॉन्चिंग का ऐलान किया है. इंग्लैंड से बड़े एक क्षेत्र में मिसाइल की लॉन्चिंग होगी. हालांकि, मिसाइल के बारे में जानकारी नहीं दी गई है.

डेली स्टार की रिपोर्ट के मुताबिक, इंग्लैंड से बड़े रूसी प्रायद्वीप के निवासियों को एक विशाल अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल की लॉन्चिंग की चेतावनी दी गई है. इसे शायद अगले सप्ताह के शुरुआती तीन दिनों के अंदर लॉन्च किया जाएगा.

जिरकॉन मिसाइल ने साधा 1000 किमी दूर का निशाना, क्यों है यह रूस का अहम हथियार

हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि कौन सी मिलाइल और लॉन्चिंग पैड का इस्तेमाल किया जाएगा. लेकिन, कामचटका क्षेत्र के निवासियों को आगामी हथियारों के परीक्षण को लेकर चेतावनी दी गई है.

रूसी सेना ने  20 अप्रैल को इस तरह की एक मिसाइल का परीक्षण किया था. सतान-2 अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल को लॉन्च किया गया था. इस मिसाइल को आम बोलचाल में शैतान मिसाइल भी कहा जाता है. ये मिसाइल अपने साथ परमाणु हथियार भी ले जा सकती हैं. इस मिसाइल पर 10 या इससे अधिक वारहेड्स लगाए जा सकते हैं. ICBM मिसाइलों की मिनिमम रेंज 5,500 किमी होती है. रिपोर्ट के मुताबिक, रूसी सेना ने अपने हाइपरसोनिक 208 टन हथियार का परीक्षण करने के लिए मिसाइल तैयार किया है, जिसे सरमत मिसाइल भी कहा जाता है.

कामचटका के अधिकारियों ने आसपास रहने वालों और क्षेत्र में पर्यटकों को चेतावनी जारी की है कि मिसाइल परीक्षण अपेक्षाकृत जल्द होगा. 6 जून से 10 जून के बीच किसी भी दिन लॉन्चिंग हो सकती है. अधिकारियों के एक बयान में कहा गया, “हम लोगों की आवाजाही, सभी प्रकार के उपकरणों, विमानन उड़ानों और पर्यटक समूहों के लिए आगामी लॉन्च और की घोषणा कर रहे हैं.”

जिरकॉन हाइपरसोनिक मिसाइल का किया परीक्षण
रूस ने 2 जून को अपनी नई हाइपरसोनिक जिरकॉन क्रूज मिसाइल का परीक्षण पूरा कर लिया है। इसे साल के अंत तक नॉर्थ फ्लीट के वॉरशिप पर तैनात किया जाएगा. रूसी युद्धपोत एडमिरल गोलोवकोस वो पहला वॉरशिप होगा, जिस पर इसे तैनात किया जाएगा. रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने जिरकॉन को नई पीढ़ी का बेजोड़ आर्म्ड सिस्टम बताया है. यह मिसाइल साउंड की स्पीड से भी 9 गुना तेज है. वहीं, रूसी रक्षा मंत्रालय का कहना है कि पिछले हफ्ते उसने बार्ट्स सी में एक शिप से जिरकॉन क्रूज मिसाइल का व्हाइट सी में करीब 1,000 किमी (625 मील) दूर टारगेट पर सफलतापूर्वक परीक्षण किया था.

3 महीने से जंग की आग में जल रहा यूक्रेन, देखिए तबाही की तस्वीरें

किन्झॉल हाइपरसॉनिक मिसाइल को पुतिन ने कहा था आइडियल वेपन
इसके अलावा मार्च में ‘किन्झॉल’ हाइपरसॉनिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया गया था. किन्झॉल रूसी भाषा का शब्द है, जिसका मतलब खंजर होता है. पुतिन इस मिसाइल को ‘आइडियल वेपन’ कहते हैं, क्योंकि 1,500 से 2000 किलोमीटर की मारक क्षमता वाली यह मिसाइल परमाणु बम भी गिरा सकती है. इस मिसाइल की टेस्टिंग पहली बार 2018 में की गई थी. किन्झॉल मिसाइल साउंड से 10 गुना ज्‍यादा रफ्तार से चलती है और 3 किमी प्रति सेकंड की रफ्तार से हमला करने में सक्षम है.

Tags: Missile, Russia, Russia ukraine war, Vladimir Putin

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments