Homeछत्तीसगढ100 साल पुराने तालाब में मिला विशालकाय दुर्लभ कछुआ, दीदार के लिए...

100 साल पुराने तालाब में मिला विशालकाय दुर्लभ कछुआ, दीदार के लिए लगी लोगों की भीड़, देखें फोटोज


मुंगेली. छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिले के एक तालाब में करीब 100 साल पुराना कछुआ मिला है. कछुए को देखकर पहले तो ग्रामीण डर गए. करीब 70 किलो वजन वाले 100 साल पुराने कछुया यहां के ग्रामीणों के लिए कौतूहल का विषय बना हुआ है. इसे देखने के लिए आस-पास से ग्रामीण पहुंच रहे हैं. हालांकि यह कछुआ मरा हुआ मिला है. कछुए को मरा हुआ देखकर ग्रामीणों का मन उदास हो गया. जानकारी के मुताबिक जिस तालाब में यह कछुआ मिला है वह भी अंग्रेजों के समय का है. करीब 100 साल पहले इस तालाब को बनाया गया था. इसी तालाब में यह दुर्लभ कछुआ मिला है.

पंचनामा तैयार कर विधिवत कछुए का अंतिम संस्कार किया गया.

अंग्रेजों के समय बना था तालाब

मुंगेली जिले में करीब 100 साल पहले अंग्रेजों के शासनकाल में राजीव गांधी मनियारी जलाशय बनाया गया था. इस तालाब से बांध भी जुड़ा हुआ है. इस बांध को मुंगेली जिले का जीवनदायिनी माना जाता है. रविवार को जब बांध के डुबान क्षेत्र में कुछ ग्रामीणों मौजूद थे. इसी दौरान यहां एक विशालकाय कछुआ दिखाई दिया. यह कछुआ आकार में करीब 3 फीट का है. वहीं इसके वजन की बात करें तो करीब 70 किलो इसका वजन है. जानकारों की मानें तो इस कछुए की उम्र भी 100 साल से ऊपर की बताई जा रही है. लेकिन इस पूरे मामले में जो सबसे दुःखद बात यह रही कि इतना दुर्लभ और आयु वाला विशाल कछुआ मृत निकला. जिससे सभी दुखी हो गए.

Rare 100 year old giant Turtle found, Rare 100 year old giant Turtle found in mungeli, Rare 100 year old giant Turtle found dead, Rajiv Gandhi reservoir, rajiv gandhi dam, mungeli, mungeli gov in, deo mungeli, deo mungeli, mungeli district, www.mungeli.gov.in 2022, mungeli population 2021, mungeli area,

पिछले साल इसी बांध में 80 किलोग्राम वजन की एक मछली भी मिली थी.

वन विभाग के अधिकारियों ने किया अंतिमसंस्कार

वहीं इसकी जानकारी वन विभाग के अधिकारियों को दी गई. जिसके बाद मौके पर पहुंचकर रेंजर विक्रम विक्रांत ने कछुआ के पीएम के लिए पशु चिकित्सक को कॉल किया. उसका पंचनामा आदि तैयार कर विधिवत कछुए का अंतिम संस्कार किया गया. वही रेंजर ने भी बताया कि पहली बार इतना विशाल कद का कछुआ देखने को मिला है. साथ ही पशु चिकित्सक के अनुसार कछुए की मौत सामान्य तरीके से ही होना पाया गया है..गौरतलब है कि पिछले साल इसी बांध में 80 किलोग्राम वजन की एक मछली भी मिली थी. जिसने सभी को आश्चर्यचकित कर दिया था. वहीं शुरू से ही यह बांध जलीय जीवों के लिए उपयुक्त रहा है. यह बांध मैकल पर्वत माला से घिरा है. इसका एक छोर अमरकंटक तक को छूता है. यह इस पूरे इलाके के लिए एक वरदान है.

Tags: Chhattisgarh news, Mungeli news today

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments