HomeBREAKING NEWSबिलासपुर में गुपचुप के स्वाद का रियालिटी चेक : बर्तन धोया, फिर...

बिलासपुर में गुपचुप के स्वाद का रियालिटी चेक : बर्तन धोया, फिर उसी हाथ से पानी तैयार कर परोस दिया; कभी सैंपल जांच भी नहीं

बिलासपुर में गुपचुप के स्वाद का रियालिटी चेक : बर्तन धोया, फिर उसी हाथ से पानी तैयार कर परोस दिया; कभी सैंपल जांच भी नहीं

OFFICE DESK BILASPUR : छत्तीसगढ़ में बिलासपुर के बिल्हा में गुपचुप-चाट खाने से 9 साल की बच्ची की मौत हो गई है। 40 से ज्यादा लोग बीमार हैं। इनमें कई अभी भी अस्पताल में भर्ती हैं।

शहर के गुपचुप व चाट ठेलों की जांच नहीं करती खाद्य विभाग की टीम।
शहर के गुपचुप व चाट ठेलों की जांच नहीं करती खाद्य विभाग की टीम।

स्वास्थ्य विभाग ने हेल्थ कैंप लगाया है। सैंपल भी लिए हैं। अब रिपोर्ट का इंतजार है।

फूड प्वाइजनिंग से बीमार बच्चों का बिल्हा अस्पताल में चल रहा था इलाज।
फूड प्वाइजनिंग से बीमार बच्चों का बिल्हा अस्पताल में चल रहा था इलाज।

पता चला कि हर गली-मोहल्ले और शहर से गांव तक ठेले-गुमटी में सब जगह स्वाद के चटकारे लिए जा रहे हैं, पर न कभी पानी की जांच होती है और न सैंपल लिए जाते हैं।

दरअसल, शहर से महज 20 किलोमीटर दूर बिल्हा के देवकिरारी गांव में चार दिन पहले गुपचुप-चाट खाने के बाद दर्जन भर बच्चियों के साथ ही 25 महिलाएं बीमार हो गईं।

शहर में बिना साफ-सफाई के ठेलों में बिक रहे चाट-गुपचुप।
शहर में बिना साफ-सफाई के ठेलों में बिक रहे चाट-गुपचुप।

उल्टी-दस्त की शिकायत पर उन्हें अस्पताल में भर्ती में कराया गया। बच्ची की मौत हो गई। अब पुलिस उसका कारण जानने में लगी है। इसके लिए उसे पोस्टमार्टम रिपोर्ट के साथ ही बिसरा रिपोर्ट का भी इंतजार है। उनको संभवत: यकीन नहीं है कि चाट-गुपचुप खाने से कोई मर भी सकता है।

गुपचुप के लिए इस्तेमाल होने वाला पानी दुकानदार घर से बनाकर लाते हैं। पानी कैसा है, उसकी जांच कभी नहीं होती। हां, स्वाद के लिए दुकानदार खुद पानी जरूर चखता है

गांव तो छोड़ शहर में खाद्य विभाग की टीम नहीं करती कभी कोई जांच।
गांव तो छोड़ शहर में खाद्य विभाग की टीम नहीं करती कभी कोई जांच।

और यही उनका सैंपल टेस्ट है। ठेले और गुमटियों में बिक रहे इन गुपचुप वालों के हाथों में ग्लव्स नहीं होते। बस पानी से भरे बर्तन में हाथ की डुबकी लगाई और भरा हुआ गुपचुप ग्राहक को परोस दिया।

गांव से शहर तक सब जगह एक जैसा हाल

टीम बिल्हा बाजार पहुंची। यहां दर्जन भर से अधिक गुपचुप-चाट के ठेले नजर आए। खाने के लिए लोगों की भीड़ थी। बेचने वाला उसी हाथ से प्लेट धोता और फिर चाट बनाते हुए दूसरे ग्राहक को गुपचुप पानी में हाथ डालकर परोस देता। शहर के हालात इससे जुदा नहीं है।

रिवर व्यू रोड की चौपाटी से लेकर देवकीनंदन चौक, बृहस्पतिबाजार, कंपनी गार्डन, सत्यम टॉकीज चौक से लेकर श्रीकांत वर्मा मार्ग सहित तिफरा व आसपास के चौक-चौराहों पर भी यही स्थिति है। फर्क इतना है कि यहां पेपर प्लेट और दोनों में खिलाया जा रहा है, पर तरीका वही है।

सिर्फ बड़े होटल तक सीमित हुए आदेश

कोरोना संक्रमण काल में प्रशासन ने होटल के साथ-साथ ठेला और गुमटियों को भी बंद करा दिया था। इसके पीछे साफ-सफाई और तेजी से फैल रहे संक्रमण को रोकना था।

कोरोना संक्रमण जब कम हुआ और गुपचुप ठेले वालों को छूट मिली, तब उन्हें हाथ में ग्लव्स लगाकर गुपचुप परोसने के निर्देश दिए गए थे, लेकिन अब वे गायब हैं। शादी-समारोह और पार्टियों में भी यही परंपरा चल रही है। हां, शहर के बड़े होटलों में गुपचुप बेचने वाले जरूर सरकारी आदेश का पालन कर रहे हैं।

ठेलों में गुपचुप बेचने वाले हाथ में नहीं पहनते ग्लब्स।
ठेलों में गुपचुप बेचने वाले हाथ में नहीं पहनते ग्लब्स।
ठेलों में गुपचुप बेचने वाले हाथ में नहीं पहनते ग्लब्स।

शहर छोड़कर गांव में जांच के लिए पहुंची टीम
बिल्हा क्षेत्र के देवकिरारी गांव में गुपचुप चाट खाकर बीमार होने के बाद स्वास्थ्य और खाद्य विभाग के अफसरों की नींद खुद गई। अफसरों ने आसपास के गांव के साथ ही बिल्हा बाजार में गुपचुप बेचने वालों के पानी की जांच के लिए सैंपल लिया है।

इधर, शहर में गली-मोहल्लों के साथ ही चौक-चौराहों में बिक रखे गुपचुप वालों की टीम ने एक भी बार पानी के सैंपल नहीं लिए है और न ही ठेलों में साफ-सफाई वगैरह की जांच की है।

कारोबारी बोले- साफ-सफाई का रखते हैं ख्याल
उन्होंने कहा कि हम साफ-सफाई का ख्याल रखते हैं। घर में गुपचुप पानी बनाने से पहले हम खुद स्वाद चखते हैं। इसके बाद ही ग्राहकों को खिलाते हैं।

फूड प्वाइजनिंग के बाद सैंपल जांचने गांव में सक्रिय हुआ अमला।
फूड प्वाइजनिंग के बाद सैंपल जांचने गांव में सक्रिय हुआ अमला।
फूड प्वाइजनिंग के बाद सैंपल जांचने गांव में सक्रिय हुआ अमला।

गुपचुप से फूड प्वाइजनिंग को लेकर उठ रहे सवाल

वह आसपास के गांव-गांव में जाकर बाजार में और बिल्हा में गुपचुप बेचता है। जिस दिन देवकिरारी गांव की महिलाएं व बच्चियां बीमार हुई, उस दिन उसने बिल्हा के तहसील ऑफिस के साथ ही मोहल्ले में भी गुपचुप खिलाया था।

लेकिन, गुपचुप खाने से देवकिरारी गांव के लोग ही बीमार हुए। बाकी दूसरे जगह के लोगों को कोई परेशानी नहीं हुई। ऐसे में उन्होंने फूड प्वाइजनिंग की घटना को लेकर ही सवाल उठने लगे।

बिल्हा में टीम ने कई गुपचुप वालों से पानी व खाद्य सामग्री के लिए सैंपल।
बिल्हा में टीम ने कई गुपचुप वालों से पानी व खाद्य सामग्री के लिए सैंपल।
बिल्हा में टीम ने कई गुपचुप वालों से पानी व खाद्य सामग्री के लिए सैंपल।

पुलिस बोली- 150 लोगों को खिलाया है गुपचुप, 25 हुए बीमार
इस घटना के बाद से पुलिस ने भी जांच की, तब पता चला कि रघु कुंभकार ने देवकिरारी के अलावा उस दिन 150 लोगों को चाट-गुपचुप खिलाया था।

यही वजह है कि स्वास्थ्य विभाग की टीम गुपचुप खाने वाले सभी लोगों की निगरानी कर रही थी। गांव में हेल्थ कैंप भी लगाया गया। हालांकि, जांच में 25 मरीजों के अलावा और कोई ग्रामीण बीमार नहीं हुए हैं। ऐसे में बच्ची की पोस्टमार्टम और बिसरा रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने भी सैंपल लिया है। जिसकी रिपोर्ट का इंतजार है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments