Google search engine
HomeBREAKING NEWSकोरोना वैक्सीन की चौथी खुराक से जुड़ी बड़ी खबर, जानिए विशेषज्ञ ने...

कोरोना वैक्सीन की चौथी खुराक से जुड़ी बड़ी खबर, जानिए विशेषज्ञ ने क्या कहा?

OFFICE DESK :- दुनिया में अब भी कोरोना अटैक की खबरें आ रही हैं. इस बीच ये सवाल उठने लगा है कि क्या भारत में कोरोना की चौथी खुराक की जरूरत पड़ेगी.

इस सवाल पर इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) में महामारी विज्ञान और संचारी रोगों के पूर्व प्रमुख डॉ. रमन गंगाखेडकर ने कोरोना वायरस और उसके वेरिएंट के बारे में मौजूदा सबूतों को देखते हुए कहा कि फिलहाल भारत में कोरोना वैक्सीन की चौथी खुराक लेने की जरूरत नहीं हैं.

उन्होंने कहा- “मौजूदा साक्ष्य (वायरस के वेरिएंट) को देखते हुए, यह इतना बड़ा नहीं है कि COVID-19 वैक्सीन की चौथी खुराक की कोई जरूरत है.

इसके कई कारण हैं. उन्होंने कहा कि अगर किसी व्यक्ति ने एंटी-कोविड-19 वैक्सीन की तीसरी खुराक ली है, तो इसका मतलब है कि उसकी टी-सेल प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को तीन बार प्रशिक्षित किया गया है

उन्होंने कहा, “मुख्य वायरस (कोविड का) इतना नहीं बदला है कि एक नए टीके की जरूरत होगी, इसलिए कोशिश करें और हमारे टी-सेल प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया पर भरोसा रखें.

” हालांकि उन्होंने कहा कि बुजुर्गों और पुरानी बीमारियों से पीड़ित लोगों को मास्क पहनने जैसी सावधानियां बरतनी जारी रखनी चाहिए. वह बोले कि चौथी खुराक के लिए अभी भी सोचना चाहिए

क्योंकि अगर कोई नया संस्करण आता है, तो वह SARS-COV2 परिवार से नहीं होगा. यह पूरी तरह से नया वेरिएंट हो सकता है और जब यह आएगा, तो हम इसके बारे में सोचेंगे क्योंकि हमारी जीनोमिक निगरानी अभी भी चल रही है. अब चिंतित होने की जरूरत नहीं है.

पहली भारतीय इंट्रानेजल कोविड वैक्सीन 26 जनवरी को लॉन्च किया जाएगा. कंपनी के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक कृष्णा एला ने शनिवार को कहा कि स्वदेशी वैक्सीन निर्माता भारत बायोटेक 26 जनवरी को भारत में अपनी तरह की पहली इंट्रानेजल कोविड-19 वैक्सीन लॉन्च करेगी.

भोपाल में इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल में छात्रों के साथ बातचीत करते हुए, एला ने यह भी जानकारी दी कि मवेशियों में ढेलेदार त्वचा रोग के लिए घरेलू टीका, लंपी-प्रोवाइंड, अगले महीने लॉन्च होने की संभावना है.

दुनियाभर में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच केंद्र सरकार ने 23 दिसंबर 2022 को भारत बायोटेक की नेजल वैक्सीन (Nasal vaccine) को मंजूरी दी थी.

यह वैक्सीन बूस्टर डोज के तौर पर लग सकेगी. नेजल वैक्सीन शुरुआत में प्राइवेट अस्पतालों में लग सकेगी. इस वैक्सीन को सरकार ने भारत के कोविड 19 वैक्सीनेशन प्रोग्राम में भी शामिल किया है.

इससे पहले भारत के औषधि महानियंत्रक DCGI ने भारत बायोटेक की इंट्रा नेजल कोविड वैक्सीन (Intranasal Covid vaccine) को आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दे दी थी.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments