Homeजरा हटके13 जनवरी को दुनिया के सबसे लंबे रिवर क्रूज की होगी शुरुआत,...

13 जनवरी को दुनिया के सबसे लंबे रिवर क्रूज की होगी शुरुआत, पीएम मोदी दिखाएंगे हरी झंडी…

13 जनवरी को दुनिया के सबसे लंबे रिवर क्रूज की होगी शुरुआत, पीएम मोदी दिखाएंगे हरी झंडी…

नई दिल्ली : देश के सबसे लंबे रिवर क्रूज की शुरुआत होने जा रही है। इस क्रूज में सफर का आनंद उठाने के लिए लोग कब से इंतज़ार कर रहे थे।

लेकिन अब जल्द ही लोगों का इंतज़ार खत्म होने जा रहा है। क्योकि 13 जनवरी को पीएम मोदी ‘गंगा विलास’ क्रूज को हरी झंडी दिखने जा रहे है। जिसको लेकर सारी तैयारी कर दी गई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से दुनिया की सबसे लंबी रिवर क्रूज यात्रा की शुरुआत होने वाली है. इस रिवर क्रूज यात्रा में पर्यटक जलमार्ग से वाराणसी से बांग्लादेश के डिब्रूगढ़ तक का सफर करेंगे।

इसके लिए भारत में हाइटेक सुविधाओं वाला ‘गंगा विलास’ क्रूज तैयार किया गया है। इस क्रूज से वाराणसी से डिब्रूगढ़ का सफर लगभग 50 दिनों में पूरा होगा।

50 जगहों पर होगे स्टॉपेज

इस अंतर्देशीय जलयात्रा में पर्यटक सबसे रोमांचकारी रिवर क्रूज़ की यात्रा करेंगे। भारतीय अंतर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण के मुख्य अभियंता रविकांत ने बताया कि यह यात्रा दुनिया की सबसे लम्बी रिवर क्रूज़ यात्रा होगी।

यह यात्रा जलमार्ग में 27 रिवर सिस्टम से होकर गुजरेगी और पर्यटकों को कुल लगभग 3,200 किलोमीटर का सफर कराएगी। इसके अलावा 50 जगहों पर इसके स्टॉपेज बनाए गए हैं। ताकि यात्रा के दौरान लोग सफर में दिखने वाले अद्भुत नज़ारे का आनंद ले सके।

क्रूज में हैं यह हैं सुविधाएं

यह क्रूज होटल जैसी लक्जरी सुविधाओं से लैस है और पूरी तरह सुरक्षित है. इस क्रूज की लंबाई 62.5 मीटर, चौड़ाई 12.8 मीटर और ड्राफ्ट 1.35 मीटर होगा. इसमें कुल 18 सुइट्स रूम हैं।
बिक चुकी हैं सभी टिकटें

यह 22 दिसंबर को 32 स्विस विजिटर्स के साथ कोलकाता कोस्ट से निकला था और यह 6 जनवरी को वाराणसी पहुंच चुका है। आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार गंगा विलास की क्षमता 80 यात्रियों की है। यह एक शानदार नदी क्रूजर है, जिसमें 18 सुइट और सभी आवश्यक सुविधाएं हैं।

इस क्रूज को साल 2018 से प्रमोट किया गया था और इसे 2020 में लॉन्च किया जाना था। हालांकि, कोरोना महामारी के चलते इसमें देरी हो गई। इस शानदार क्रूज के टिकट के कीमत की जानकारी सार्वजनिक नहीं की गई है। लेकिन अगले कुछ वर्षों के सभी टिकट स्विस पर्यटकों को बेचे जा चुके हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments

%d bloggers like this: