Homeजरा हटकेआखिरकार अमेरिका ने मार गिराया चीन का ‘जासूसी गुब्बारा’, बीते पांच दिनों...

आखिरकार अमेरिका ने मार गिराया चीन का ‘जासूसी गुब्बारा’, बीते पांच दिनों से मचा हुआ था हड़कंप…

आखिरकार अमेरिका ने मार गिराया चीन का ‘जासूसी गुब्बारा’, बीते पांच दिनों से मचा हुआ था हड़कंप…

OFFICE DESK :- अपने हवाई क्षेत्र में पिछले कुछ दिनों से नजर आ रहे चीन के कथित जासूसी गुब्बारे को आखिरकार अमेरिका ने मार गिराया है.

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के आदेश पर अमेरिकी एयरफोर्स ने F-22 रैप्टर एयरक्राफ्ट से मिसाइल दागकर साउथ कैरोलिना के समुद्री तट से करीब 9.6 किलोमीटर दूर अटलांटिक महासागर में गिरा दिया. अमेरिका की इस कार्रवाई पर चीन ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है.

बता दें कि चीन का कथित जासूसी गुब्बारा 28 जनवरी को अमेरिका के अलास्का में प्रवेश किया था. यहां से 30 जनवरी को कनाडा के हवाई क्षेत्र में प्रवेश किया.

इसके बाद 31 जनवरी को दोबारा कनाडा से इडाहो के रास्ते गुब्बारा अमेरिकी के हवाई क्षेत्र में प्रवेश किया था. केवल अमेरिकी और कनाडा में ही नहीं बल्कि दक्षिण अमेरिका में भी चीन का ऐसा जासूसी गुब्बारा नजर आने के बाद हड़कंप मचा हुआ था.

अमेरिकी राज्य मोंटाना के ऊपर देखे गए बैलून का आकार तीन बसों के बराबर था. अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने कहा था कि इस स्पाई बैलून से लोगों को किसी तरह का खतरा नहीं है.

लेकिन अमेरिकी सैन्य विमानों के जरिए इस बैलून को ट्रैक किया जा रहा था. जमीन के ऊपर इस गुब्बारे को शूट डाउन किए जाने से होने वाले संभावित नुकसान को देखते हुए उचित समय का इंतजार किया जा रहा था.

जासूसी गुब्बारे के अमेरिका के साउथ कैरोलिना के समुद्री तट से करीब 9.6 किलोमीटर दूर अटलांटिक महासागर में पहुंचने पर F-22 रैप्टर एयरक्राफ्ट से सिंगल साइडविंडर मिसाइल दागकर शूट डाउन किया गया. इस कार्रवाई के लिए फाइटर एयरक्राफ्ट ने अमेरिका के वर्जीनिया के लैंगली एयर फोर्स बेस से उड़ान भरी थी.

अमेरिका के इस कदम पर चीन के विदेश मंत्रालय ने कड़ी प्रतिक्रिया जताते हुए कहा कि हम चाहते थे कि अमेरिका इस मुद्दे को शांति के साथ हल करे.

लेकिन अमेरिका ने हमारे सिविलियन एयरशिप को मार गिराया. हम इसके खिलाफ अपना विरोध जताते हैं. अमेरिका ने इसे अंजाम देकर अंतर्राष्ट्रीय मानकों का उल्लंघन किया है. चीन अपने अधिकारों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है.

वहीं दूसरी ओर चीन का जासूसी गुब्बारा गिराए जाने के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने बयान जारी कर कहा कि मुझे गुब्बारे के बारे में जैसे ही बताया गया,

मैंने पेंटागन (US रक्षा मंत्रालय का मुख्यालय) को तुरंत गुब्बारा शूट डाउन करने के आदेश दिए. गुब्बारे को गिराते समय इसके मलबे से जमीन पर किसी को नुकसान न पहुंचे, इसलिए गुब्बारे को तब शूट डाउन किया गया, जब वह समुद्र के ऊपर था.

जो बाइडेन ने आगे कहा कि अब अमेरिका का फोकस मलबे को रिकवर करने पर है. टीम को लेकर जो जहाज मौके पर पहुंचे हैं, उनमें गोताखोरों के साथ FBI के अधिकारी भी शामिल हैं.

जरूरत पड़ने पर रिकवरी मिशन के लिए उनका भी इस्तेमाल किया जाएगा. अमेरिका ने इस मिशन में कुछ मानव रहित जहाजों को भी तैनात किया है.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments

%d bloggers like this: