Google search engine
HomeUncategorizedअवैध शराब बिक्री से ग्रामीण परेशान : शिकायत के बाद भी कार्रवाई...

अवैध शराब बिक्री से ग्रामीण परेशान : शिकायत के बाद भी कार्रवाई नहीं, एसपी कार्यालय पहुंचकर लगाई गुहार….

अवैध शराब बिक्री से ग्रामीण परेशान : शिकायत के बाद भी कार्रवाई नहीं, एसपी कार्यालय पहुंचकर लगाई गुहार

राजनांदगांव :- अवैध शराब बिक्री से परेशान ग्राम डिलापहरी के लोगों ने आज बड़ी संख्या में एसपी कार्यालय पहुंचकर गांव में अवैध शराब की बिक्री बंद कराने की गुहार लगाई.

शराब बेचने वालों पर भी कार्रवाई की मांग उठाई. ग्रामीणों ने कहा कि अवैध शराब बिक्री से गांव का माहौल खराब हो रहा. साथ ही बच्चे भी नशे की गिरफ्त में आ रहे हैं. इस मामले में कार्रवाई नहीं होने पर ग्रामीणों ने उग्र आंदोलन की चेतावनी दी.

ग्राम डिलापहरी में बीते 4 वर्षों से अवैध शराब की बिक्री जोरों पर है, जिसे लेकर ग्रामीण कई बार थाने, पुलिस अधीक्षक कार्यालय और कलेक्टर से भी शिकायत कर चुके हैं,

लेकिन गांव में अवैध शराब की बिक्री बंद नहीं हुई. इसे देखते हुए आज बड़ी संख्या में ग्रामीण पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचे और उन्होंने एक ही परिवार के पिता-पुत्रों द्वारा गांव में अवैध शराब बेचने के मामले में कार्रवाई की मांग करते पुलिस अधीक्षक के नाम ज्ञापन सौंपा.

गांव के पूर्व सरपंच गोविंद वर्मा ने कहा कि गांव के ही निलेश वर्मा, भगवती वर्मा और नरहर वर्मा गांव में अवैध शराब बिक्री करते हैं, जिससे गांव का माहौल खराब हो चुका है. वहीं अवैध शराब बिक्री का विरोध करने पर ग्रामीणों के साथ वे लोग गाली गलौज और मारपीट पर उतारू हो जाते हैं.

आरोपियों के खिलाफ होगी कार्रवाई : नगर पुलिस अधीक्षक

गांव में अवैध शराब बिक्री की जानकारी गांव के लोग लगातार पुलिस और प्रशासन को दे रहे हैं. इसके बावजूद इस मामले में कड़ी कार्यवाही नहीं हो रही है, जिससे गांव में अवैध शराब बिक्री करने वालों के हौसले बुलंद हैं.

अवैध शराब बिक्री के इस मामले को लेकर नगर पुलिस अधीक्षक अमित पटेल ने कहा कि ग्रामीणों की शिकायत पर इस मामले में प्रतिबंधात्मक कार्रवाई आरोपियों के खिलाफ की जा रही है. उन्होंने बताया कि आरोपियों के पास से कोई भी शराब नहीं मिली है.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments